दोनों प्रदेशों में इस बार उम्मीदवार मतदाताओं को न शराब से आकर्षित कर पायेंगे और न पैसे से ललचा पायेंगे - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Sunday, April 21, 2019
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • दोनों प्रदेशों में इस बार उम्मीदवार मतदाताओं को न शराब से आकर्षित कर पायेंगे और न पैसे से ललचा पायेंगे
    - केन्द्रशासित प्रदेश दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली में आदर्श आचार संहिता का सख्ती से पालन - निष्पक्ष और तटस्थ चुनाव के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी पूजा जैन, दमण निर्वाचन अधिकारी संदीप कुमार, दीव निर्वाचन अधिकारी हेमंत कुमार और दादरा नगर हवेली के निर्वाचन अधिकारी कन्नन गोपीनाथन और उनकी टीम लगातार रख रही है पैनी नजर - 1971 में मतदाताओं को 10-10 रुपये देने का शुरु हुआ था चलन
    - पिछले लोकसभा चुनाव में 500 रुपये का चलन होने का किया गया था दावा - पंचायती और नपा चुनाव में 1500 से 2500 रुपये तक पैसे बांटने की उठी थी आवाज
    दमण, 07 अप्रैल। केन्द्रशासित प्रदेश दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली में इस बार आदर्श आचार संहिता का सख्ती से पालन हो रहा है। निष्पक्ष और तटस्थ चुनाव के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी पूजा जैन, दमण निर्वाचन अधिकारी संदीप कुमार, दीव निर्वाचन अधिकारी हेमंत कुमार और दादरा नगर हवेली के निर्वाचन अधिकारी कन्नन गोपीनाथन और उनकी टीम लगातार पैनी नजर रखे हुए हैं। एक-एक वाहनों की चेकिंग हो रही है। शराब और नकद की हेराफेरी रोकने के लिए कई कदम उठाये गये हैं। खासकर ऐसे क्षेत्रों पर ज्यादा ध्यान दिया गया है जहां मतदाताओं को शराब और पैसे का लालच देकर बहकाया जा सके। 24७7 दोनों संघ प्रदेशों में विभिन्न टीमें लगातार पेट्रोलिंग कर रही है। गौरतलब है कि दमण-दीव में चुनाव में पैसे देने का चलन 1971 में शुरु किया गया था। पुराने बुजुर्ग बताते थे कि उस वक्त तत्कालीन दो स्मग्लरों के बीच कडा मुकाबला था। एक स्मग्लर ने अपने खासमखास साथी को गोवा दमण-दीव विधानसभा चुनाव में दमण की सीट से उतारा था। जबकि दूसरा स्मग्लर खुद चुनाव लड रहा था। बताया जाता है कि उस वक्त प्रति मतदाता 10 रुपये बांटे गये थे। इतना ही नहीं कई गांवों में चुनाव में लाभ लेने के लिए मंदिरों का निर्माण भी करवाया गया था। उसके बाद धीरे-धीरे वक्त बदलता गया। 10 रुपये से शुरु हुआ खेल 100 रुपये तक पहुंचा। 1998 और 1999 में 100 रुपये, 2004 में 200 रुपये, 2009 में 300 से 500 रुपये, 2014 में 500 से 800 रुपये तक प्रति मतदाता खर्च किये जाने की लगातार चर्चाएं सामने आ रही थी। पंचायती और नगरपालिका चुनाव की बात करें तो 100-200 रुपये से शुरु हुआ खेल 1500 से 2500 तक पहुंच गया। खैर दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली में शराब और पैसे का लालच देकर वोट प्राप्त करना अब भूतकाल बन चुका हैै। युवा अफसरों की टीम तटस्थ रुप से अपना चुनावी दायित्व निभा रही है। इस वातावरण को दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली के जागरुक मतदाता काफी पसंद कर रहे हैं। ख्याल सिर्फ इतना रखना है कि आदर्श आचार संहिता के पालन में आम आदमी, पर्यटक या व्यापारी परेशान न हो। क्योंकि चुनाव के समय ही पर्यटकों का सीजन शुरु हो चुका है।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS