सूरज का जब उदय होता है तो उसका रंग केसरिया होता है:पीएम नरेन्द्र मोदी - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Tuesday, November 20, 2018
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • सूरज का जब उदय होता है तो उसका रंग केसरिया होता है:पीएम नरेन्द्र मोदी

    - त्रिपुरा, नागालैंड में भाजपा की सरकार: लेफ्ट का किया सूर्यास्त और 2 राज्यों को किया कांग्रेस मुक्त
    - पूर्वोत्तर में भाजपा की जीत पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा, कांग्रेस का इतना छोटा कद पहले कभी नहीं हुआ - वास्तु शास्त्र के हिसाब से भी नॉर्थ-ईस्ट काफी महत्वपूर्ण: नरेन्द्र मोदी - पीएम अजान के दौरान 2 मिनट तक मौन रहे - देश के 21 राज्यों पर भाजपा और साथी दलों का शासन - त्रिपुरा की फतह के बाद अब पश्चिम बंगाल पर भी भाजपा की निगाहें
    नई दिल्ली। पूर्वोत्तर के त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय में बीजेपी के शानदार प्रदर्शन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय पहुंचे और पार्टी कार्यकर्ताओं से मिले। इस दौरान बीजेपी के तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद थे। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रधानमंत्री का पार्टी मुख्यालय में स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने जैसे ही पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करना शुरू किया, तभी पास की ही एक मस्जिद से अजान की आवाज आनी शुरू हो गई। अजान की आवाज कानों में पड़ते ही प्रधानमंत्री ने अपना भाषण रोक दिया। अजान के समय पार्टी मुख्यालय में सन्नाटा पसर गया।
    अजान खत्म होते ही पीएम मोदी ने भारत माता की जय कहते हुए अपना संबोधन शुरू किया। उन्होंने कहा कि बीजेपी के अनेक कार्यकर्ताओं ने शाहदत दी है। राजनीतिक विचारधारा के कारण हमारे निर्दोष कार्यकर्ताओं के कारण मौत के घाट उतार दिया। प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान त्रिपुरा में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं को मौन रहकर श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि ये लोकतंत्र की ताकत है कि गरीब से गरीब मतदाता ने वोट की चोट करके हिंसा की विचारधारा के खिलाफ बीजेपी के पक्ष में अपना मतदान किया।
    प्रधानमंत्री ने कहा कि जय-पराजय होती रहती है। जीत के साथ पराजय को भी दिल से स्वीकार करना ही स्वस्थ्य लोकतंत्र की परंपरा है। उन्होंने कहा कि जो लोग लोकतंत्र की दुहाई देते रहते हैं वे पराजय को दिल से स्वीकार नहीं कर पा रहे है।
    पीएम मोदी ने कहा कि किसी भी इमारत के निर्माण के समय वास्तुशास्त्री नॉर्थ-ईस्ट कोने की मजबूती पर जोर देते हैं। किसी भी इमारत की मजबूत के लिए नॉर्थ-ईस्ट कोना सबसे महत्वपूर्ण होता है। इन चुनावों में जता दिया है कि लोकतंत्र में अब नॉर्थ-ईस्ट का कोना भी मजबूत हो गया है, देश का विकास अब तेजी से गति पकड़ेगा।
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सत्ता में आने के बाद केंद्र ने नॉर्थ-ईस्ट पर सबसे ज्यादा ध्यान देना शुरू किया। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद जितने मंत्री नॉर्थ-ईस्ट में गए, उससे कहीं ज्यादा पिछले चार सालों में केंद्र सरकार ने अपने मंत्री पूर्वोत्तर राज्यों में भेजे। हर 15 दिन में एक मंत्री पूर्वोत्तर के किसी ना किसी राज्य का दौरा करता है। उनकी सरकार ने दिल्ली पुलिस में नॉर्थ-ईस्ट के लोगों के लिए सीटें तय कीं। चार साल पहले तक नॉर्थ-ईस्ट के लोगों के लिए दिल्ली बहुत दूर थी, लेकिन हमने दिल्ली को उनके द्वार पर लाकर खड़ा कर दिया।
    प्रधानमंत्री ने कहा कि अमित शाह के नेतृत्व में बीजेपी लगातार आगे बढ़ रही है। लेकिन एक दल ऐसा भी जहां लोग पद में तो ऊपर चढ़ते जाते हैं, लेकिन कद में छोटे होते रहते हैं। कांग्रेस पार्टी का इतना छोटा कद कभी नहीं हुआ। उन्होंने बीजेपी कार्यकर्ताओं से कहा कि हमें सर्तक रहना होगा कि कहीं कांग्रेस कल्चर उनकी पार्टी में इधर-उधर से ना घुस आए।
    पूर्वोत्तर के त्रिपुरा और नागालैंड में पार्टी को मिली जीत के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि बीजेपी ने अच्छी जीत हासिल की है, लेकिन ये भाजपा का गोल्डन पीरियड नहीं है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक, ओडिशा, केरल और पश्चिम बंगाल में चुनाव होने वाले हैं। जब तक इन राज्यों में उनकी पार्टी नहीं आ जाती तब तक बीजेपी का गोल्डन पीरियड शुरू नहीं होगा।
    प्रधानमंत्री के संबोधन से कुछ देर पहले पत्रकारों से बात करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि ये पूर्वोत्तर के विकास को लेकर प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता और विकास की राजनीति की जीत है। उन्होंने बताया कि त्रिपुरा में 2013 के चुनावों में बीजेपी को एक भी सीट नहीं मिली थी, केवल एक उम्मीदवार ही अपनी जमानत बचा पाया था, लेकिन इस बार उनकी पार्टी पूर्ण बहुमत में आई है। त्रिपुरा में बीजेपी गठबंधन को 43 सीटें हासिल की हैं। नागालैंड की 60 सीटों में से 29 सीटों पर बीजेपी गठबंधन ने जीत हासिल की है। पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि इस जीत के संदेश के साथ वह कर्नाटक की तरफ कूच करेंगे।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS