भारत जैसे महान राष्ट्र में आशावाद एवं नैतिकता के साथ रहना हर नागरिक का दायित्व:महामहिम प्रिंस आगाखान - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Friday, July 20, 2018
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • भारत जैसे महान राष्ट्र में आशावाद एवं नैतिकता के साथ रहना हर नागरिक का दायित्व:महामहिम प्रिंस आगाखान
    - भारत की 10 दिवसीय यात्रा मेंमहामहिम प्रिंस करीम आगाखान ने राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री से मुलाकात के बाद दिया विदायी संदेश
    नई दिल्ली। भारत की 10 दिवसीय यात्रा पूरी करने के बाद महामहिम प्रिंस करीम आगाखान ने विदायी समारोह में संदेश देते हुए कहा कि भारत जैसे महान राष्ट्र ने आशावाद एवं नैतिकता के साथ रहना हर नागरिक का दायित्व है। भारत की 10 दिवसीय यात्रा के दौरान महामहिम प्रिंस करीम आगाखान ने भारत के राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ ही गुजरात के मुख्यमंत्री एवं राज्यपाल, तेलंगाना के उपमुख्यमंत्री एवं राज्यपाल, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री तथा राज्यपाल के साथ मुलाकात कर विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। उपराष्ट्रपति से मुलाकात के दौरान महामहिम प्रिंस करीम आगाखान ने दिल्ली में 90 एकड में फैले आगाखान ट्रस्ट फार कल्चर द्वारा पुन: निर्मित सुंदर नर्सरी का उद्घाटन किया। महामहिम प्रिंस करीम आगाखान ने भारत यात्रा के दौरान इस्माइली समुदाय के साथ मुलाकात की। उन्होंने इस्माइली समुदाय को राष्ट्र की सेवा में नैतिकताभरा जीवन जीने के लिए, ज्ञान से देश की सेवा करने के लिए, समग्र जीवन के दौरान शिक्षा लेने के लिए तथा बालपन के प्रारंभिक चरण के दौरान होते विकास की महत्ता पर जोर दिया। भारत का दौरा आरामदायक एवं फलदायी बनाने के लिए उन्होंने भारत सरकार, राज्य सरकारों तथा प्रशासनिक तंत्र का खास आभार माना। उन्होंने अपने अनुयायियों को जोर देकर कहा कि भारत मौका का देश है एवं इस महान राष्ट्र में आशावाद तथा नैतिकता के साथ रहना सभी नागरिक का कर्तव्य है। महामहिम प्रिंस करीम आगाखान ने डायमंड जुबली प्रसंग की 10 दिवसीय यात्रा पूरी करने के बाद विदायी लेते वक्त एक बार फिर सरकार के सहयोग एवं समर्थन के लिए मुलाकात के दौरान दिये गये सम्मान के लिए आभार व्यक्त किया। आगा खान के जुबली समारोहों में सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक विकास परियोजनाएं शुरू करने की परंपरा है। इन परियोजनाओं में सभी धर्मों के लोगों के लिए अस्पताल, स्कूल, विश्वविद्यालय आदि का निर्माण शामिल हैं। भारत में सामाजिक विकास में योगदान के लिए 2015 में आगाखान को पद्म विभूषण से नवाजा गया था।
    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS