मोदी सरकार की कैबिनेट ने सिलवासा में मेडिकल कॉलेज की स्थापना को दी मंजूरी - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Sunday, December 16, 2018
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • मोदी सरकार की कैबिनेट ने सिलवासा में मेडिकल कॉलेज की स्थापना को दी मंजूरी
    - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का नायाब तोहफा:दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली के 150 छात्रों का हर वर्ष डॉक्टर बनने का सपना होगा साकार
    - प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने मेडिकल कॉलेज की मंजूरी के साथ 189 करोड की धनराशि को भी किया आवंटित - मेडिकल कॉलेज से दोनों केन्द्रशासित प्रदेशों के जनजातीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों के छात्रों को होगा लाभ, चिकित्सकों की संख्या में वृद्धि से बेहतर मेडिकल सुविधाएं मिलेगी: केन्द्रीय मंत्रिमंडल
    नई दिल्ली/दमण। प्रधानमंत्री नरेन्­द्र मोदी की अध्­यक्षता में आज केन्द्रीय कैबिनेट ने दादरा नगर हवेली के सिलवासा में मेडिकल कॉलेज की स्­थापना को मंजूरी प्रदान कर दी है। इस मेडिकल कॉलेज में प्रतिवर्ष 150 छात्र प्रवेश प्राप्­त कर सकेंगे। इसके साथ ही संघ प्रदेश दमण-दीव और दादरा नगर हवेली के विद्यार्थियों द्वारा प्रदेश में मेडिकल कॉलेज की स्­थापना का बहुप्रतीक्षित स्­वप्­न पूरा हो गया है। प्रदेश में मेडिकल कॉलेज के खुलने की घोषणा से दमण-दीव तथा दादरा नगर हवेली के लोगों में हर्ष एवं उल्­लास का माहौल है। यहां के विद्यार्थियों में विशेष उत्­साह देखने को मिला है। केन्­द्र सरकार प्रत्­येक क्षेत्र खासकर चिकि­त्­सा एवं स्­वास्­थ्­य सेवा क्षेत्र में संघ प्रदेशों के विकास के लिए निरंतर कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री का लक्ष्य है कि प्रत्­येक भारतवासी को सस्ती और गुणवत्तापूर्ण स्­वास्­थ्­य सेवा सुलभ हो। इस दिशा में कदम बढाते हुए दमण एवं दीव तथा दादरा एवं नगर हवेली में योग्­य डॉक्­टरों की संख्­या को बढ़ाने के उद्देश्­य से सिलवासा के जिला अस्­पताल से जुड़े नये मेडिकल कॉलेज की स्­थापना की जाएगी। पूर्व में प्रतिवर्ष दोनों संघ प्रदेशों के लिए मात्र 12-13 सीट देश के सुदूर भागों में आरक्षित रहती थी। अब प्रतिवर्ष 150 मेडिकल की सीटें उपलब्­ध होने से यह संख्या 10 गुना से ज्यादा बढ़ गयी है। पूर्व में यहां के विद्यार्थियों को दूर-दराज के मेडिकल कॉलेजों में अध्­ययन के लिए जाना पड़ता था, इससे उन्­हें और उनके अभिभावकों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता था। प्रदेश में मेडिकल कॉलेज के खुलने से यहां के विद्यार्थियों को इन मुश्किलों से निजात मिल जाएगी और अभिभावकों के ऊपर भी व्­यय का बोझ कमतर हो जाएगा। ज्ञात हो कि दादरा नगर हवेली मुख्­यत: आदिवासी बहुल क्षेत्र है। यहां योग्­य चिकित्­सकों का अभाव महसूस किया जाता रहा है। प्रदेश की इस समस्­या से अवगत होने पर प्रशासक प्रफुल पटेल ने इस दिशा में पहल की और प्रधानमंत्री नरेन्­द्र मोदी को इस बाबत अवगत कराया। जब प्रधानमंत्री ने दोनों प्रदेशों के लोगों के दर्द को जाना तो इस समस्­या के निराकरण के लिए उन्­होंने स्­वयं पहल की और गृह मंत्रालय तथा संघ प्रदेश दमण एवं दीव प्रशासन को सिलवासा में मेडिकल कॉलेज की स्­थापना का खाका तैयार करने का निर्देश जारी किया। पुन: यह प्रधानमंत्री नरेन्­द्र मोदी का संघ प्रदेशों के प्रति अप्रतिम स्­नेह और प्रशासक प्रफुल पटेल के अथक प्रयासों का परिणाम ही है कि केन्­द्रीय कैबिनेट द्वारा सिलवासा में मेडिकल कॉलेज की स्­थापना को मंजूरी प्रदान की गई है। युनियन बजट में पहले इस कॉलेज की स्­थापना पर होने वाले व्­यय का प्रावधान नहीं था। मगर प्रधानमंत्री ने इस संदर्भ में विशेष रूचि दिखाते हुए गृह मंत्रालय के बजट में इसके लिए प्रावधान के आदेश दिये, जिसके चलते मंत्रिमंडल द्वारा यह प्रस्­ताव मंजूर किया जा सका। कैबिनेट ने दोनों संघ प्रदेशों के लिए सिलवासा में मेडिकल कॉलेज की स्­थापना को मंजूरी प्रदान करते हुए 189 करोड़ रूपये की राशि हेतु अनुमोदन प्रदान किया है तथा प्रतिवर्ष विविध व्­यय हेतु राशि रू. 30 करोड़ की मंजूरी भी प्रदान की है। प्रफुल पटेल ने जब से दोनों संघ प्रदेशों के प्रशासक के तौर पर कार्यभार संभाला है, तब से वे हर क्षेत्र और हर तबके के विकास के लिए निरंतर लगे हुए हैं। पिछले कुछ समय से उन्­होंने प्रदेश को मेडिकल कॉलेज की सौगात दिलाने के लिए प्रयासरत थे। आज दोनों संघ प्रदेशों के लिए वह स्वर्णिम क्षण आ गया है जब प्रदेश स्­वयं के मेडिकल कॉलेज से सुसज्जित हो सकेगा। अब मेडिकल की पढ़ाई और अधिकांश मायनों में मेडिकल सेवा का लाभ लेने के लिए प्रदेश के लोगों को प्रदेश के बाहर नहीं जाना पड़ेगा। इस ऐतिहासिक मौके पर दोनों संघ प्रदेश के लोगों ने तहेदिल से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और संघ प्रदेशों के प्रशासक प्रफुल पटेल के प्रति आभार व्­यक्­त किया है। गौरतलब है कि पुर्तगाली शासन से मुक्त होने के बाद दादरा नगर हवेली एवं दमण-दीव के छात्रों ने मेडिकल कॉलेज का सपना लगातार देखा है। 1954 से दादरा नगर हवेली और 1961 से दमण-दीव को मेडिकल कॉलेज का इंतजार था। 2016 में संघ प्रदेशों के प्रशासक बनने के बाद प्रफुल पटेल ने दोनों प्रदेशों के लिए एक मेडिकल कॉलेज की आवश्यकता को महसुस करते हुए इस पर गंभीरता से मंथन शुरु किया। प्रफुल पटेल की इच्छा सरकारी मेडिकल कॉलेज बनाने की थी जिससे गरीब एवं मध्यम वर्ग के छात्र भी डॉक्टर बनने के सपने को पूरा कर सके। प्रशासक प्रफुल पटेल के लगातार प्रयासों से मोदी सरकार ने मेडिकल कॉलेज की मांग पर संज्ञान लेते हुए मेडिकल कॉलेज को मई में मौखिक मंजूरी दे दी थी। उस वक्त दोनों प्रदेशों के लिए 100 सीटों वाली मेडिकल कॉलेज की घोषणा हुई थी। लेकिन प्रशासक प्रफुल पटेल ने दोनों प्रदेशों की आबादी और छात्रों की संख्या को देखते हुए 150 सीटों की मेडिकल कॉलेज स्थापित करने का प्रयास किया। आखिरकार आज मोदी सरकार की कैबिनेट ने 150 सीटों वाली मेडिकल कॉलेज पर मंजूरी की मुहर लगाते हुए इसके जरुरी धनराशि भी आवंटित कर दोनों प्रदेशों को ऐतिहासिक भेंट दी है।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS