दमण एवं दीव के 57वें मुक्ति दिवस पर जश्­न में डूबा प्रदेश, 5 दिवसीय महोत्­सव का हुआ भव्­य समापन - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Monday, December 10, 2018
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • दमण एवं दीव के 57वें मुक्ति दिवस पर जश्­न में डूबा प्रदेश, 5 दिवसीय महोत्­सव का हुआ भव्­य समापन
    - कलाकारों ने पेश की नृत्­य, कला और संगीत की अनूठी मिशाल, कुछ यादें छोड़ गये कुछ यादें ले गये - 19 दिसंबर की देर शाम मशहूर फनकार और सेलेब्रिटी प्लेबैक सिंगर विशाल एवं शेखर ने बिखेरा अपने संगीत का जादू - दमण-दीव एवं दानह प्रशासक प्रफुल पटेल, दमण-दीव सांसद लालू पटेल, प्रशासक के सलाहकार एस. एस. यादव, जिला कलेक्टर संदीप कुमार सिंह, पर्यटन सचिव पूजा जैन, डीआईजीपी बी. के. सिंह, डीएमसी प्रेसिडेंट शौकत मिठाणी सहित के महानुभावों की रही मौजूदगी
    असली आजादी ब्यूरो, दमण 20 दिसं­बर। संघ प्रदेश दमण एवं दीव के प्रशासक प्रफुल पटेल के दिशानिर्देश और प्रशासक के सलाहकार एस. एस. यादव के कुशल मार्गदर्शन में दमण-दीव के 57वें मुक्ति दिवस के उपलक्ष्­य में आयोजित पांच दिवसीय सांस्­कृतिक समारोह का भव्­य आयोजन सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। 19 की देर शाम मोटी दमण लाइट हाउस बिच पर मशहूर कलाकारों की प्रस्तुति के साथ ही कार्यक्रम का समापन हुआ। जिसमें मशहूर फनकार और सेलेब्रिटी प्लेबैक सिंगर विशाल एवं शेखर ने अपने संगीत का जादू बिखेरा। संगीतमय माहौल में दमणवासी खूब झूमते-नाचते नजर आये। संघ प्रदेश प्रशासन की ओर से दमण-दीव के 57वें मुक्ति दिवस को यादगार बनाने के लिए 15 दिसं­बर से लेकर 19 दिसं­बर तक कई कार्यक्रम आयोजित किये गये। जिसमें 15 से 17 दिसंबर तक नेशनल स्­कूल ऑफ ड्रामा के सौजन्­य से 'आदिरंग महोत्­सव' का आयोजन हुआ। जिसमें पूरे भारतवर्ष से लगभग 485 लोकनृत्­य कलाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया। इस अवसर पर दमण में दूर-दराज से आये लोगों ने भारत की आदिवासी संस्­कृति को जाना और उनके नृत्­यों का भरपूर लुत्­फ उठाया। प्रशासक प्रफुल पटेल ने कलाकारों के मनोबल को बढ़ाने के लिए उन्­हें अपने निवास पर आमंत्रित कर सम्मानित किया। प्रशासक ने कलाकारों को संबोधित करते हुए कहा कि देश की अनमोल सांस्कृतिक विरासत आदिवासी नृत्यों और कलाओं में बसी है। आज दमण की धरती इस बात के लिए धन्य है कि इस धरातल पर देशभर से आदिवासी कलाकार यहां पधारे हैं और अपनी कला का प्रदर्शन किया है। नेशनल स्­कूल ऑफ ड्रामा के निदेशक प्रो. वामन केन्­द्रे ने प्रशासक प्रफुल पटेल का कलाकारों के प्रति यह सम्मान देखकर कहा कि इस क्षण को मैं कभी नहीं भूल पाऊँगा। मेरे 35 वर्ष के लंबे कार्यकाल में आज यह पहला मौका है जब किसी प्रदेश में कलाकारों को इतना सम्­मान मिला हो। यह लम्­हा मेरी जिंदगी का बेहद यादगार लम्­हा है। नेशनल स्­कूल ऑफ ड्रामा की ओर से अभिनय, संगीत, नृत्­य एवं कला का अतुलनीय प्रदर्शन किया गया। दमण की आवाम के लिए भी यह अविस्­मरणीय पल था जब वे देश की आदिवासी संस्कृति और उसकी धरोहरों से रूबरू हो रहे थे। 17 दिसंबर को रन दमण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें 5, 7 और 14 किलोमीटर की दूरी के लिए दौड़ अखण्­डता और एकता की ज्­योत जलाने के उद्देश्­य से किया गया। इसमें दमण के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्­सा लिया। यह दौड़ मोटी दमण फुटबॉल ग्राउंड से शुरू होकर विभिन्­न मार्गों से गुजरते हुए फुटबॉल ग्राऊंड के मुहाने पर खत्­म हुई। 18 दिसंबर को लाइट हाउस बिच पर दमण डांस मेनिया के तहत ग्रैंड फिनाले का आयोजन किया गया। फिर दर्शकों के दिल को जीतने की बारी प्रिंस दुबे और किंग्­स यू­नाईटेड की थी। मंच पर चढ़ते ही लोग इन्­हें देखकर बेहद रोमांचित हो उठे। इन्होंने अपने नृत्य का जलवा बिखेरकर लोगों का दिल जीत लिया। 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' को तर्ज बनाकर पुडुचेरी से आये हुए कलाकारों ने अपनी कला का अभिनव प्रदर्शन कर लोगों पर अपना खूब जादू चलाया। बात यहीं तक नहीं रूकी, अब मंच को संभालने की बारी प्रसिद्ध डायरा गायक साईंराम दवे की थी। साईं राम दवे ने अपने कला-कौशल और रसपूर्ण प्रदर्शन से लोगों को मोहित कर लिया। प्रदेश के मुक्ति दिवस के पावन अवसर पर 19 दिसंबर की सुबह बांदोडकर स्­टेडियम में राजकीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्रदेश के जवानों ने परेड मार्च किया। विविध स्­कूलों और संस्­थानों से आये बच्­चों के रंगारंग प्रदर्शन से पूरा ग्राउंड रंगीन हो गया। दमण की संस्कृति और देश की सामाजिक विषयों पर आधारित झांकियों के प्रदर्शन ने इस कार्यक्रम को और भी रोचक बना दिया। 11 बजे पर्यटन विभाग के सौजन्­य से गाला कार्निवल परेड का आयोजन हुआ जो तीन बत्ती से शुरू होकर नानी दमण जेट्टी पर खत्­म हुई। 19 दिसंबर की देर शाम लाइट हाउस बिच पर समारोह का रंगारंग समापन कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर संघ प्रदेश दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली प्रशासक प्रफुल पटेल, दमण-दीव सांसद लालू पटेल, प्रशासक के सलाहकार एस. एस. यादव, जिला कलेक्टर संदीप कुमार सिंह, पर्यटन सचिव पूजा जैन, डीआईजीपी बी. के. सिंह, डीएमसी प्रेसिडेंट शौकत मिठाणी, तरुणा पटेल, विशाल टंडेल, तमन्ना मिठाणी, परसीस दमणिया, ईरा लाला, पद्मश्री डॉ. एस. एस. वैश्य, अस्पी दमणिया के अलावा प्रशासन के अधिकारीगण, चुने हुए प्रतिनिधिगण एवं मीडियाकर्मी मौजूद थे। इस मौके पर पुडुचेरी से आये कलाकारों ने सर्वप्रथम मंच को संभाला। उन्­होंने लोगों से खचाखच भरे माहौल को संगीतमय बना दिया। अब संगीत और मौशिकी का जादू बिखरने की बारी मशहूर फनकार और सेलिब्रिटी प्­लेबैक सिंगर विशाल और शेखर की थी। उनके मंच पर आते ही लोगों ने तालियों और सीटियों की गड़गराहट से स्­थल को रोमांचित कर दिया। विशाल-शेखर के गानों को सुनकर लोग आनंद विभोर हो उठे। ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो मुम्­बई की मायानगरी दमण की धरा पर उतर आयी हो और सारा प्रदेश उत्­सव के माहौल में झूमने लगा। दमण-दीव के मुक्ति दिवस के अवसर पर आयोजित होने वाले इस पांच दिवसीय समारोह को सफल बनाने के लिए प्रशासन के समस्­त अधिकारियों एवं कर्मियों ने कमर कस ली थी। पुलिस विभाग और अग्निशमन सेवा महकमे ने मुस्तैदी के साथ काम किया। प्रशासक के मार्गदर्शन में प्रशासन के सभी महकमों ने पुरजोर मेहनत करते हुए इस कार्यक्रम को सफल बनाया। प्रशासन के पर्यटन विभाग ने सम्पूर्ण कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार कर उसे सफलता के साथ क्रियान्वित किया। जिससे इस विशाल एवं भव्­य कार्यक्रम को अपार सफलता मिली।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS