आईएएस, आईपीएस एवं दानिक्स अधिकारियों ने साइकिल से दमण भ्रमण कर दिया जागरूकता संदेश - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Friday, December 15, 2017
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • आईएएस, आईपीएस एवं दानिक्स अधिकारियों ने साइकिल से दमण भ्रमण कर दिया जागरूकता संदेश
    - दमण में सरकारी अधिकारियों की निकली साइकिल सवारी
    असली आजादी ब्यूरो, दमण 30 जुलाई। केन्द्रशासित प्रदेश दमण में प्रशासनिक अधिकारियों ने साइकिल की सवारी कर लोगों को जागरूकता संदेश दिया। इस साइकिल सवारी में आईएएस, आईपीएस एवं दानिक्स अधिकारियों ने दमण के विभिन्न विस्तारों में घूमकर नागरिकों के बीच जागरूकता फैलायी। मोटी दमण स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स से शुरू हुई साइकिल सवारी में स्पोर्ट्स सचिव उमेश कुमार त्यागी, दमण कलेक्टर संदीप कुमार, दानह कलेक्टर गौरव सिंह राजावत, दमण जिला पंचायत सीईओ चार्मी पारेख, डीएमसी सीओ वैभव रिखारी, दमण एसपी सेजू पी. कुरूवीला, परिवहन उपनिदेशक करणजीत वाडोदरिया, नानी दमण थाना प्रभारी पीआई भरत पुरोहित, मोटी दमण थाना प्रभारी पीआई सोहिल जीवाणी, क्राइम ब्रांच एवं ट्रैफिक पीआई पंकेश टंडेल, आरटीओ इंस्पेक्टर बिपीन पवार, सहित के अधिकारी शामिल हुए। साइकिल पर सवार होकर निकले अधिकारियों ने साइकिल से चलो स्कूल, क्लीन दमण-ग्रीन दमण, स्वच्छ भारत-स्वच्छ दमण, मेरा दमण-सुरक्षित दमण का संदेश बुलंद किया। साइकिल सवारी मोटी दमण किले के पास से राजीव गांधी सेतु, नानी दमण चार रास्ता से होते हुए जेटी के रास्ते समुद्र किनारे से निकलते हुए देवका-मीरासोल पहुंची। जहां से कडैया होते हुए मशाल चौक के रास्ते कोस्टल होते हुए परियारी एवं मगरवाडा के बाद वापस मोटी दमण स्पोर्ट्स कॉम्पलेक्स पर समाप्त हुई। इस दौरान स्कूली बच्चों ने साइकिल टू स्कूल के थीम से साइकिल सवारी का स्वागत किया। इस साइकिल सवारी का मुख्य उद्देश्य लोगों की साइकिल के प्रति रूचि को बढाना था। साइकिल के उपयोग से जहां एक तरफ शारीरिक क्षमता बढती है, वहीं पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुंचा है। साइकिल चलाने से अकस्मात की घटनाएं भी कम होने की संभावना होती है। स्कूली बच्चों को साइकिल से स्कूल जाने के लिए प्रेरित करना भी प्रशासनिक अधिकारियों की साइकिल सवारी का मकसद था।
    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS