दमण कोर्ट के कनेक्टिंग-टू-सर्वे कार्यक्रम का स्वामी विवेकानंद सभागार में हुआ समापन - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Friday, December 15, 2017
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • दमण कोर्ट के कनेक्टिंग-टू-सर्वे कार्यक्रम का स्वामी विवेकानंद सभागार में हुआ समापन

    - कानून साक्षरता कार्यक्रम आमजन के लिए सुरक्षा कवच
    - डिस्ट्रस्टि एण्ड सेंशन जज एम. आर. देशपांडेय, सिविल जज एस. एस. नागुर और सिविल जज सचिन गुगे, डिप्टी कलेक्टर चार्मी पारेख, एस. एस. मोडासिया, नीलम पटेल, के. पी. देसाई सहित वकील, पुलिस कर्मियों की रही मौजूगी - जिला जज और सिविल जज ने 9 दिन तक चलने वाले अभियान में सहभागिता निभाने वाले वकीलों एवं प्रतिभागी छात्रों को किया पुरस्कृत
    असली आजादी ब्यूरो, दमण 18 नवंबर। दमण कोर्ट द्वारा आयोजित 9 दिवसीय कानूनी साक्षरता कार्यक्रम कनेक्टिंग टू सर्वेका आज शानदार आयोजन के साथ समापन हुआ। स्वामी विवेकानंद सभागार में समापन समारोह के अवसर पर डिस्ट्रस्टि एण्ड सेंशन जज एम. आर. देशपांडेय, सिविल जज एस. एस. नागुर और सिविल जज सचिन गुगे, डिप्टी कलेक्टर चार्मी पारेख, वरिष्ठ वकील बकुल देसाई समेत वकीलों, पुलिस कर्मियों की उपस्थिति रही। 9 नवंबर से 18 नवंबर तक दमण के गांव-गांव एवं मोहल्ला-मोहल्लों में कानूनी साक्षरता पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये। इन कार्यक्रमों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले वकीलों, पैरालीगल स्टाफ सहित को आज समापन समारोह में जिला जज, सिविल जज के हाथों पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर डिस्ट्रक्टि एण्ड माननीय जज एम. आर. देशपांडेय ने अपना वक्तव्य दिया। जागरूकता कार्यक्रम दौरान आयोजित विभिन्न प्रतियोगिता के विजेता विद्यार्थियों को भी पुरस्कृत किया गया। जिसमें बेटी बचाओ बेटी पढाओ विषय पर आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता में सरकारी हाईस्कूल नानी दमण की सलेहा एम. कुरेशी-प्रथम, सरकारी हाईस्कूल नानी दमण की सोफिया एस. खलीफा-द्वितीय, सार्वजनिक विद्यालय दमण के सुमित वर्मा तृतीय स्थान पर रहे। निबंध स्पर्धा में गवर्मेंट हाई सेकेंडरी स्कूल नानी दमण की ज्योति अजीत झा ने महिलाओं के अधिकार विषय पर प्रथम, सार्वजनिक स्कूल दमण के अंकेश चंद्रा ने पर्यावरण बचाओ विषय पर द्वितीय, इंस्टीट्युट ऑफ अवर लेडी ऑफ फातिमा स्कूल के राठोड प्रथम प्रशांत ने साइबर क्राइम विषय पर तृतीय स्थान प्राप्त किया। भाषण प्रतियोगिता में गवर्मेंट हाई सेकेंडरी स्कूल नानी दमण की सना सबीर बडगुजर ने बेटी बचाओ बेटी पढाओ विषय पर प्रथम क्रमांक हासिल किया। गवर्मेंट हाई सेकेंडरी स्कूल नानी दमण की पूनम यू. पटेल शिक्षा के अधिकार विषय पर द्वितीय स्थान पर रही। गवर्मेंट हाई सेकेंडरी स्कूल नानी दमण की आंशी सुरेन्द्र ठाकुर बेटी बचाओ बेटी पढाओ विषय पर तृतीय क्रमांक पर रही। निबंध प्रतियोगिता के प्रमोशनल प्राइज में सार्वजनिक विद्यालय दमण की कृतिका डी. पटेल ने बेटी बचाओ बेटी पढाओ विषय पर प्रथम स्थान पर रही। गवर्मेंट हाई सेकेंडरी स्कूल मोटी दमण की टंडेल किंजल ईश्वरभाई शिक्षा का अधिकार विषय पर द्वितीय स्थान पर रही। सार्वजनिक विद्यायल दमण की रुपल के. भानुशाली ने यौन उत्पीड़न के खिलाफ बच्चों की सुरक्षा विषय पर तृतीय स्थान प्राप्त किया। वहीं गवर्मेंट हाईस्कूल नानी दमण के देवेश के. यादव ने वरिष्ठ नागरिकों के अधिकार विषय पर चतुर्थ स्थान हासिल किया। 9 दिन तक चले इस कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए वरिष्ठ वकील बकुल एम. देसाई ने बताया कि दमण विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से लोगों में कानून की मौलिक जानकारी देने एवं त्वरित न्याय दिलाने में लोक अदालतों की प्रभावी भूमिका के बारे में लोगों को बताया गया। 9 नवंबर से 18 नवंबर तक चले कनेक्टिंग टू सर्वे अभियान दौरान दमण के सभी ग्रामीण एवं शहरी विस्तारों में कानूनी साक्षरता पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित कर दैनिक जीवन में कानून का क्या महत्व है, कानून एक ऐसा क्षेत्र है जिसकी जानकारी आम जनता को नहीं होती है। कभी-कभी कानूनी जानकारी के अभाव में आम जनता काफी प्रभावित होती है। लोगों के क्या अधिकार है, क्या कर्तव्य है और कानूनी प्रक्रिया क्या होती है 9 दिवसीय कार्यक्रम दौरान लोगों को समझाया गया। उल्लेखनीय है कि अब हम ज्यादा कानूनी प्रक्रियाओं से घिरे है। जीवन, स्वतंत्रता, समानता, गरिमा, शिक्षा आदि के अधिकार संवैधानिक कानून के दायरे में आते हैं। आज रोज़मर्रा की जिंदगी में बाल उत्पीड़न, यौन उत्पीड़न एवं घरेलू हिंसा के मामले ज्यादा सामने आ रहे है। यानि हम आमतौर पर कह सकते है कि कानूनों की जानकारी होने से हम कई समस्याओं से बच सकते है। इस प्रकार विधि साक्षरता सुरक्षा कवच के समान है। आज के तौर में हर एक व्यक्ति को कानून और कानून के पालन के महत्व के बारे में जागरूक होना बहुत जरूरी है।
    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS