प्रशासन में प्रमाणिकता और भ्रष्टाचारमुक्त शासन स्थापित : पूर्व सांसद मोहन डेलकर - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Monday, October 23, 2017
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • प्रशासन में प्रमाणिकता और भ्रष्टाचारमुक्त शासन स्थापित : पूर्व सांसद मोहन डेलकर
    - दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली के इतिहास में पहली बार प्रशासक प्रफुलभाई पटेल के नेतृत्व में
    - केन्द्रशासित प्रदेश दमण-दीव और दादरा नगर हवेली की बदली हुई तस्वीर का श्रेय प्रशासक प्रफुलभाई पटेल के नेतृत्व को जाता है : मोहन डेलकर - भूमाफियाओं और शराबमाफियाओं पर जबरदस्त अंकुश भी प्रशासक प्रफुल पटेल ने लगाया : पूर्व सांसद डेलकर - पूर्व सांसद मोहन डेलकर ने भारत सरकार द्वारा प्रशासक के रूप में प्रफुलभाई पटेल की नियुक्ति को सराहनीय बताया - प्रशासक के नेतृत्व में कलेक्टर गौरव सिंह राजावत की कार्य पद्धति भी प्रशंसा के पात्र : डेलकर
    असली आजादी ब्यूरो, सिलवासा 25 सितंबर। दादरा नगर हवेली के 6 बार सांसद रहे मोहन डेलकर ने आज प्रशासक प्रफुलभाई पटेल की तारीफ करते हुए कहा कि केन्द्रशासित प्रदेश दमण-दीव और दादरा नगर हवेली के इतिहास में पहली बार प्रमाणिकता और भ्रष्टाचारमुक्त शासन का उच्च स्तर देखा जा रहा है। पूर्व सांसद मोहन डेलकर ने प्रेस बयान जारी कर कहा कि भारत सरकार की औद्योगिकीकरण की छूट के साथ लीकर बिक्री की भी छूट दी गई थी। इसी के चलते प्रशासन में जमीन खरीद-फरोख्त और शराब की हेराफेरी के चलते भारी भ्रष्टाचार फैला हुआ था। भारत सरकार द्वारा ऐसी प्रवृत्तियों का सफाया करने के लिए प्रशासक के तौर पर प्रफुलभाई पटेल को भेजा गया। प्रशासक प्रफुलभाई पटेल ने केन्द्रशासित प्रदेश दमण-दीव और दादरा नगर हवेली का शासन संभालने के साथ ही आक्रामक कदम उठाना शुरू किया। लैंड माफियाओं और लीकर माफियाओं के खिलाफ सख्त कार्यवाही शुरू करवाई। साथ ही साथ भ्रष्टाचार को रोकने के लिए और जनता को सुशासन देने के लिए प्रयास तेज किये। आज इन्हीं प्रयासों के चलते केन्द्रशासित प्रदेशों में लैंड और लीकर माफियाओं पर अंकुश पाया जा सका और भ्रष्टाचार पर लगाम लग गई है। पूर्व सांसद मोहन डेलकर ने कहा कि दोनों केन्द्रशासित प्रदेश में ज्यादातर राजनेता जमीन और शराब के धंधे के साथ जुडे हुए है। उन्होंने कहा कि प्रशासक प्रफुलभाई पटेल अवैध गतिविधियों को चलने नहीं देते है, अयोग्य सिफारिश को स्वीकारते नहीं है। इसलिए यहीं नेता प्रफुलभाई पटेल की कार्यशैली से नाराज हो, यह स्वाभाविक है। लेकिन प्रशासक के प्रदेशहित के इस निर्णयों के परिणाम स्वरूप प्रदेश की आम जनता में एक अच्छा संदेश पहुंचा है। पूर्व सांसद मोहन डेलकर ने दानह जिला कलेक्टर गौरव सिंह राजावत की भी तारीफ करते हुए कहा कि प्रशासक के नेतृत्व में दानह प्रशासन में गौरव सिंह राजावत भ्रष्टाचारमुक्त शासन के मजबूत पक्षधर साबित हुए है। कलेक्टर गौरव सिंह राजावत ने पारदर्शिता एवं नीति-नियमों के पालन के साथ-साथ भेदभावमुक्त शासन लोगों को मिले, इस दिशा में आगे बढ रहे है। पूर्व सांसद मोहन डेलकर ने कहा कि पिछले लंबे समय से केन्द्रशासित प्रदेशों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर पहुंच गया था। पडोसी राज्यों में अवैध शराब तस्करी के कारण दोनों केन्द्रशासित प्रदेश बदनाम हो चुके थे। ऐसी परिस्थिति में भारत सरकार द्वारा प्रफुलभाई पटेल जैसे निष्ठावान, प्रमाणिक, कुशल और अनुभवी व्यक्ति को प्रशासक के तौर पर नियुक्त करके भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के साथ-साथ शराब की तस्करी को भी रोकने का प्रयास किया गया है। भारत सरकार का यह निर्णय समय और संजोगों की दृष्टि से अति सराहनीय होने की अनुभूति मोहन डेलकर द्वारा व्यक्त की गई है।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS