दुनिया को जी-20 में आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन के खतरे को समझाने में सफल रहे पीएम मोदी - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Tuesday, September 26, 2017
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • दुनिया को जी-20 में आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन के खतरे को समझाने में सफल रहे पीएम मोदी
    - दुनिया के बडे देश अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, जापान, चीन, कनाडा सहित के देशों के राष्ट्र प्रमुखों एवं प्रधानमंत्रियों से रूबरू मुलाकात कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भारत की चिंता को समझाया
    दमण, (स्पेशल डेस्क)। जर्मनी के हैम्बर्ग में आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दुनिया को आतंकवाद एवं जलवायु परिवर्तन के खतरे को समझाने में सफल रहे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकवाद को बढावा देने वाले देशों के खिलाफ कडी कार्यवाही की मांग करते हुए कहा कि अपने फायदे के लिए आतंकवाद को बढावा देने में ऐसे देश मदद करते है। पीएम मोदी ने लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकवादी संगठनों का नाम लेकर आतंकवाद के बढते खतरे से दुनिया को आगाह करते हुए पाकिस्तान की पोल खोल दी। जी-20 के देशों ने भारत की आतंकवाद को लेकर चिंता को गंभीरता से लिया और इसके खिलाफ एकजुटता दिखायी। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जी-20 देशों को जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आगे आने का आह्वान किया। अमेरिका के पेरिस जलवायु परिवर्तन समझौते से पीछे हटने के निर्णय के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की यह टिप्पणी काफी कारगर साबित हुई। जी-20 के देशों ने भी इस मुद्दे पर भारत की बात का समर्थन किया। कुल मिलाकर देखा जाएं तो जी-20 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे, फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों, जर्मन के चांसलर एंजेला मर्केल, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन त्रुदो, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे, चीन के राष्ट्रपति सी जिंग पिंग सहित के राष्ट्र प्रमुखों एवं प्रधानमंत्रियों से रूबरू मुलाकात कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकवाद और जलवायु परिवर्तन सहित कई मुद्दों पर भारत का पक्ष रखा। यह जी-20 शिखर सम्मेलन भारत की दृष्टि से काफी सफल रहा। विश्व महासत्ताओं के बीच पहली बार भारत का दमखम दिखा, क्योंकि इस बार भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने अंतर्राष्ट्रीय संबंधों का सटीक उपयोग करते हुए न सिर्फ आतंकवाद को बढावा देने वाले देशों के खिलाफ निशाना साधते हुए ठोस कार्यवाही करने की बात रखी। जिसे जी-20 के देशों ने सहजता से स्वीकार किया, क्योंकि यूरोप, अमेरिका, ब्रिटेन सहित के देश आतंकवाद की मार झेल रहे है। भारत तो पिछले तीन दशकों से आतंकवाद के खतरे से दुनिया को आगाह कर रहा था, लेकिन उस वक्त दुनिया भारत में हो रही आतंकवादी गतिविधियों को दो देशों के बीच विवाद और समस्या से जोडकर देख रही थी। लेकिन जब अमेरिका, यूरोप सहित के अन्य देशों पर आतंकवादियों ने हमला शुरू किया तब दुनिया को भारत की कही गई बात याद आयी। पिछले तीन साल के कार्यकाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुनिया के सभी प्रमुख राष्ट्रों का दौराकर न सिर्फ द्विपक्षीय समझौतो को लागू करवाया, बल्कि पूरी दुनिया के साथ भारत का अटूट नाता भी स्थापित करवाया। जी-20 शिखर सम्मेलन के सफलता का श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी टीम को जाता है।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS