दानह कांग्रेस ने आदिवासी भवन में मनायी डॉ. भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती - Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli Asli Azadi Hindi News paper of Union territory of daman-diu & Dara nagar haveli
  •  

  • RNI NO - DDHIN/2005/16215 Postal R.No.:VAL/048/2012-14

  • देश-विदेश
  • विचार मंथन
  • दमण - दीव - दानह
  • गुजरात
  • लिसेस्टर
  • लंदन
  • वेम्बली
  • संपर्क

  •         Sunday, May 28, 2017
  • Gallery
  • Browse by Category
  • Videos
  • Archive
  • संपादक : विजय भट्ट सह संपादक : संजय सिंह । सीताराम बिंद
  • BREAKING NEWS : दीव म्युनिसिपल का चुनाव घोषित:7 जून से नोमिनेशन फॉर्म भरने की प्रक्रिया होगी शुरु:1 जुलाई को होगा मतदान:4 जुलाई तक आयेंगे नतीजे:
    दानह कांग्रेस ने आदिवासी भवन में मनायी डॉ. भीमराव अंबेडकर की जन्म जयंती
    - मजबूत और लोकतांत्रिक संविधान के कारण गरीब एवं कुचले वर्ग को आगे बढने के मिले अवसर : ताराचंद भगोरा - सामाजिक पूर्वाग्रह जब देश से नष्ट हांेगे तब होगी बाबा साहेब को सच्ची श्रद्धांजलि : मोहन डेलकर - बाबा साहेब प्रसिद्ध विद्धान और प्रखर कानूनविद थे : महेश गावित
    सिलवासा 14 अप्रैल। दानह के आदिवासी भवन में भारतीय संविधान निर्माता एवं भारत रत्न डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर की 125वीं जन्म जयंती धूमधाम से मनायी गई। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी सचिव व अंबेडकर जयंती प्रभारी ताराचंद भगोरा की उपस्थिति रही। इस कार्यक्रम में ताराचंद भगोरा ने अपने वक्तव्य में बताया कि डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर ने हमारे संविधान को मजबूत और लोकतांत्रिक तरीके से बनाया जिसके कारण ही आज गरीब और कुचले वर्ग को आगे बढने के अवसर मिले। बाबा साहेब ने आर्थिक, सामाजिक क्षेत्र में वंचित श्रमिकों सहित महिलाओं के अधिकार के लिए भी उग्र आंदोलन चलाएं। इसी वजह से आज बाबा साहेब जननायक के नाम से पहचाने जाते है। आरक्षण के कारण गरीब व पिछडे वर्ग में बडी संख्या में आईएएस, आईपीएस और राजनीतिज्ञ बने है। हिंदुस्तान की बेहतरीन कानून व्यवस्था बनी जिसमें कांग्रेस पार्टी के तत्कालीन नेताओं का मजबूत समर्थन रहे होने की बात ताराचंद भगोरा ने की। दानह कांगे्रस प्रमुख मोहन डेलकर ने अपने वक्तव्य में कहा कि बाबा साहेब ने अपने दिमाग और विवेक का सद्उपयोग कर जो संविधान का निर्माण किया उसी के कारण विधानसभा, लोकसभा, न्यायतंत्र और प्रशासन की व्यवस्था में आज भी मजबूत लोकतंत्र के दर्शन होते है। मोहन डेलकर ने अपने कार्यकर्ताओं को संगठन बावत बताया कि आपसी तालमेल और प्रमाणिकता हमारी पूंजी है। धीरज और संघर्ष दो चीजों को साथ लेकर हम सब को चलना है और इससे सफलता जरूर मिलेगी। अंत में मोहन डेलकर ने कहा कि सामाजिक पूर्वाग्रह जब इस देश से नष्ट होंगे तब ही बाबा साहेब को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। जिला पंचायत अध्यक्ष रमण काकवा ने बाबा साहेब के पद चिन्हों पर चलने से जीवन कितना लंबा यह नहीं कितना सही जिया इसका महत्व समझाया। उपाध्यक्ष महेश गावित ने बाबा साहेब को प्रसिद्ध विद्वान और प्रखर कानूनविद बताया। कार्यक्रम के अंत में बाबा साहेब अंबेडकर की प्रतिमा सचिवालय में स्थापित करने के प्रस्ताव को मोहन डेलकर ने समर्थन दिया। इस कार्यक्रम में नवशक्ति महिला संगठन की संस्थापिका कलाबेन डेलकर, कांग्रेस उपाध्यक्ष डॉ. टी. पी. चौहाण, काकड निकुडिया, महामंत्री केशू पटेल, कमलेश पटेल, दीपक प्रधान, कोषाध्यक्ष सुरेश कोटियान, कांगेे्रस पार्टी जिला पंचायत सदस्य, सरपंच, नगरपालिका सदस्य सहित चुने हुए सभी जनप्रतिनिधि तथा बडी संख्या में शहरी और ग्रामीण विस्तार के लोग उपस्थित रहे।

    FLICKER
    Download Asliazadi's apple and android apps
    फोटो गैलरी
    वीडियो गैलरी
    POLLS